HEALTH

Piles treatment in Hindi : बवासीर का घरेलू इलाज और परहेज कैसे करें?

Piles treatment in Hindi : बवासीर एक ऐसी बीमारी है जो इंसान को बहुत तरह की तकलीफ है दे सकती है इस बीमारी को piles और Hemorrhoids के नाम से भी जाना जाता है इसमें गुदा यानी ANUS के अंदर, बाहर और rectum के निचले हिस्से में सूजन आ जाती है जिसके कारण गुदा के अंदर या बहार किसी भी जगह पर मस्से जैसे दाने बं जाते है, जो काफी दर्दनाक होते है।

Piles treatment in Hindi

भारत के अंदर साठ फीसद लोगों को किसी ना किसी उम्र के पड़ाव में बवासीर जैसे बीमारी की समस्या हो ही जाती है, और जल्द से जल्द अगर इसका इलाज़ ना करवाया जाए तो ये और रोद्र रूप ले सकता है , ऐसे में इस बीमारी से निपटने के लिए सही उपचार(piles treatment) और परेज बहुत ज्यादा आवश्यक है।

यह भी पढ़े : Coronavirus News : 10 राज्यों में 81% संक्रमित मरीजों की रिकवरी

कितने प्रकार के होते है piles

बवासीर (piles) केवल 2 प्रकार के होते है, खूनी बवासीर और बादी बवासीर

खूनी बवासीर –

यदि किसी व्यक्ति को खूनी बवासीर हो जाता है तो उसमें किसी प्रकार की पीड़ा नहीं होती है इसमें मलत्याग करते वक्त खून अता है जिसमे गुदा के अंदर मस्से बन जाते है,मल त्याग के समय इसमें खून टपकने लगता है और कभी कभी पिचकारी के रूप में भी बाहर निकलता है, जिससे शरीर में काफ़ी कमजोरी आ जाती है।

बादी बवासीर

बादी बवासीर पेट की समय से होता है और इसमें पेट की समाया बनी रहती है, अक्सर कब्ज़ और गैस के मरीजो को यह बीमारी ज्यादा जल्दी पकड़ती है, इसमें मस्से में खून नहीं आता है, यह बहार होते है इस लिए आसानी से देखें जा सकते है, इसमें बार-बार खुजली और जलन होती है आपकी जानकारी के लिए बता दें कि शुरुआती अवस्था में यह तकलीफ नहीं देता है लेकिन लगातार अस्वस्थ खानपान और कब्ज रहने से यह फूल जाते हैं और इनमें खून जमा हो जाता है जिसके बाद सूजन जैसी समस्या आने लगती है।

यह भी पढ़े : लॉकडाउन में बढ़े ‘Revenge porn’ के मामले, यहां जाने आखिर क्या होता है ‘Revenge porn’ ?

जो मरीज इस बीमारी से ग्रसित होते हैं उनको ना सहन करने वाली पीड़ा होती है और सोगी दर्द से छत पर आने लगता है, मल त्याग करते समय और उसके बाद भी रोगी को दर्द बना ही रहता है, वह अच्छी तरह चल फिर भी नहीं पता है क्योंकी चलने फिरने ने भी दर्द इंसान के सेहन से बहार हो जाता है, लेकिन घबराने की जरूरत नहीं है इलाज करने से यह जल्द से जल्द ठीक हो जाता है।

बवासीर (piles ) के लक्षण

  • गुदा के आस-पास कठोर गांठ जैसी महसूस होती है। इसमें दर्द रहता है, तथा खून भी आ सकता है।
  • शौच के बाद भी पेट साफ ना हेने का आभास होना।
  • शौच के वक्त जलन के साथ लाल चमकदार खून का आना।
  • शौच के वक्त अत्यधिक पीड़ा होना।
  • गुदा के आस-पास खुजली, एवं लालीपन, व सूजन रहना।
  • शौच के वक्त म्यूकस का आना।
  • बार-बार मल त्यागने की इच्छा होना, लेकिन त्यागते समय मल न निकलना।

*इन लक्षणों को बिल्कुल भी नजरअंदाज ना करें अगर आपके जान पहचान में कोई डॉक्टर है तो तुरंत उससे संपर्क करें वरना बीमारी जानलेवा भी हो सकती है।

बवासीर के घरेलू नुस्खे ( Home remedies for piles )

आप अगर डाक्टर से सम्पर्क करना नहीं चाहते है तो आप घर के नुस्खे अपना के देख सकते है, यह नुस्खे आप को किसी भी प्रकार का नुकान नहीं पहुंचते है, लेकिन अगर आप को फिर भी आराम ना मिले और दिक्कत बढ़ती जाए तो फौरन अपने नजदीकी डाक्टर के साथ सलाहर करे और जल्द से जल्द इलाज शुरु कर दे।

Use Aloe vera for Piles Treatment in Hindi

एलोवेरा का पेड़ आप को आस पास ही मिल जाएगा हो सकता है आप ने इस पेड को अपने घर में ही लगा के रखा हो,  एलोवेरा का पौधा सूजनरोधक और चिकित्सकीय गुणों  भरपूर होता है, इसके इस्तेमाल से बवासीर की जलन कम हो जाती है, और कब्ज की समस्या नहीं होती, एलोवेरा खूनी बवासीर और बादी बवासीर  दोनों प्रकार के Piles के इलाज में फ़ायदा करता है। गुदा के बाहर के मस्सों में एलोवेरा जेल लगाएं। यह जलन और खुजली को शांत करता है। एलोवेरा के 200-250 ग्राम गूदे को खाएं। इससे कब्ज नहीं (Bavasir ka upchar) होगी और मलत्यागने में आसानी होगी।

Use Apple Vinegar for Piles Treatment in Hindi

अक्सर आप सेब का सिरका अपने  खाने में इस्तेमाल करते होंगे, लेकिन शयद ही आप को इस बार की जानकारी हो की यह बवासीर यानि piles के इलाज़ में बहुत काम अत है,  सेब का सिरका कषाय गुणों के कारण रक्तवाहिनियों को सिकोड़ने में मदद करता है। अगर आप को खूनी बवासीर की समस्या है तो एक गिलास पानी में सेब के सिरके का एक चम्मच डालकर दिन में दो बार पिएं। बादी बवासीर में सेब के सिरके में रुई भिगाकर गुदा में रखें। इससे जलन और खुजली से राहत मिलेगी।

Olive Oils : Home Remedy for Piles Treatment in Hindi

जैतून का तेल आप अक्सर अपने बालों में लगते होंगे और आज कल यह तेल खाने में भी बहुत ज़्यादा लोग इस्तेमाल लड़ने लगे है, अगर आप को किसी भी प्रकार का बवासीर है तो तो जैतून का तेल में सूजन ठीक करने वाले गुण होते हैं। यह रक्तवाहिकाओं में आई सूजन को कम करता है। जैतून के तेल को बादी बवासीर के मस्सों पर लगाएं, इससे आप को काफ़ी आराम मिलेगा। 

Badam oil : Home Remedies for Hemorrhoids Treatment in Hindi

बवासीर के इलाज के लिए बादाम का तेल बहुत फायदेमंद साबित हो सकता है, आप को बता दे कि बादाम का सुद्ध तेल आप को बवासीर से छुटकारा दिला सकता है लेकिन आज के दौर में बादाम का सुद्ध तेल खोजना कोई आसान काम नहीं है, शुद्ध बादाम के तेल में रुई को डुबोएं, तथा बादी बवासीर में मस्सों पर लगाएं। यह सूजन और जलन को कम करता है।

Akshansh

Owner Of E-Kalam News, Rapper At FreeFund Productions, works as a Freelance Hindi Journalist In Many Web News Channels, Having Ability To Work independently Is what I Learned From MySelf

Related Articles

Back to top button