दिल्ली पुलिस की गिरफ्त में आया दीप सिद्धू 

  26 जनवरी को लाल किले पर हुई हिंसा के बाद दिल्ली पुलिस के राडार पर आया दीप सिद्धू जनरैल सिंह भिंडरांवाले को क्रांतिकारी मानता था। दीप सिद्धू पर किसान संगठनों को पहले से शक था कि उसे खालिस्तानी संगठन सहयोग कर रहे हैं लेकिन वह आंदोलनकारियों के बीच घुसा रहा।  दीप सिद्धू आखिरकार दिल्ली पुलिस की गिरफ्त में आ ही गया। तीन फरवरी को ही दिल्ली पुलिस ने दीप सिद्धू पर इनाम घोषित किया था। इसने अपने करियर की शुरुआत मॉडलिंग से की थी। दीप सिद्धू शुरू से ही किसान आंदोलन से जुड़ा था लेकिन 26 जनवरी को हुई हिंसा के बाद से वह फरार था। मंगलवार को वह गिरफ्तार कर लिया गया।

यह भी पढ़ें : स्वास्थ्य मंत्री की चेतावनी, इस देश में आ सकती है कोरोनावायरस की दूसरी लहर 

पंजाब के मुक्तसर जिले में अप्रैल 1984 में जन्मे दीप सिद्धू ने लॉ की पढ़ाई की है। किंगफिशर मॉडल हंट का विजेता रह चुका सिद्धू मिस्टर इंडिया कॉन्टेस्ट में मिस्टर पर्सनैलिटी का खिताब जीत चुका है। साल 2015 में उसकी पहली पंजाबी फिल्म ‘रमता जोगी’ रिलीज हुई। हालांकि उसे प्रसिद्धि 2018 में आई फिल्म जोरा दास नुम्बरिया से मिली, जिसमें उनका किरदार गैंगस्टर का था।

26 जनवरी को लाल किले पर हुई हिंसा के बाद दिल्ली पुलिस के राडार पर आया दीप सिद्धू जनरैल सिंह भिंडरांवाले को क्रांतिकारी मानता था। किसान संगठनों को पहले से शक था कि उसे खालिस्तानी संगठन सहयोग कर रहे हैं लेकिन वह आंदोलनकारियों के बीच घुसा रहा।  

दिल्ली हिंसा के आरोपी ने फेसबुक पर लाइव होकर किसान नेताओं को खुली चेतावनी दी थी। बार बार गद्दार कहे जाने से नाराज सिद्धू ने किसान नेताओं को कहा था कि अगर उसने अंदर की बातें खोलनी शुरू कर दी तो इन नेताओं को भागने की राह नहीं मिलेगी। इस बात को डायलॉग न समझें। ये बात याद रखना। सिद्धू ने कहा कि मेरे पास हर बात की दलील है। किसान नेताओं को मानसिकता बदलनी चाहिए। 

यह भी पढ़ें : स्वप्ना फाउंडेशन ने नगर निगम के साथ चलाया सफाई अभियान   

इसके बाद उसने फेसबुक पर एक वीडियो पोस्ट कर कहा था कि वह जांच में शामिल होगा, लेकिन उसे कुछ मोहलत चाहिए। दीप सिद्धू का नाम भाजपा सांसद सनी देओल के साथ  भी जोड़ा जाता था। हालांकि हिंसा में इसका नाम आने के बाद सनी देओल ने ट्वीट कर इस मामले से खुद को अलग कर लिया था।