सर्दी के मौसम में बढ़ सकता है कोरोना का खतरा, भारत खरीदेगा एक लाख मीट्रिक टन ऑक्सीजन

देशभर में कोरोना का खतरा तेजी से बढ़ता जा रहा है , जा अभी तक थमने क नाम नहीं ले रहा है।  वहीं सर्दियों में कोरोना वायरस का प्रसार फिर से बढ़ सकता है। जिसे लेकर सरकार ने अपनी तैयारी भी कर रही है।  सरकार प्रसार को रोकने के लिए जनांदोलन चला रही है। वहीं गंभीर मरीजों को ऑक्सीजन उपलब्ध कराने को लेकर सरकार ने एक लाख मीट्रिक टन ऑक्सीजन विदेशों से खरीदने की योजना बनाई है। इसे लेकर बुधवार को एक टेंडर भी जारी किया गया है।

यह भी पढ़ें : बिहार चुनाव 2020 : क्या है सवर्ण राजनीति ? जो बिहार में पूरे तीन दशक बाद दिखी

  लॉकडाउन के दौरान बढ़े संक्रमित मरीजों के चलते ऑक्सीजन की मांग तीन गुना अधिक बढ़ गई है। ऐसे में सरकार का मानना है कि अनलॉक में जहां औद्योगिक गतिविधियां वापस से शुरू हो रही हैं। ऐसे में मरीजों को ऑक्सीजन की दिक्कत न हो, इसलिए पहले से ही उसकी तैयारियां शुरू कर दी हैं। फिलहाल स्थिति यह है कि देश में 3.97 फीसदी संक्रमित मरीज ऑक्सीजन सपोर्ट पर हैं। जबकि 2.46 फीसदी आईसीयू में भर्ती हैं।  

कोरोना

कैबिनेट सचिव बैठक में की गई थी चर्चा 
मंत्रालय से मिली जानकारी के अनुसार, बीते 10 अक्तूबर को कैबिनेट सचिव के साथ बैठक में ऑक्सीजन की उपलब्धता को लेकर चर्चा की गई थी, जिसके बाद यह तय किया गया कि विदेशों से एक लाख मीट्रिक टन ऑक्सीजन को खरीदा जाए। इस प्रतिक्रिया में करीब एक से डेढ़ माह का वक्त लग सकता है। हालांकि वर्तमान स्थिति को देखें तो ऑक्सीजन पर्याप्त है, लेकिन आगामी त्योहार के दिनों के साथ साथ सर्दियों के चलते एहतियात भी जरूरी है।

यह भी पढ़ें “: यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव कोरोना संक्रमित, अस्पताल में भर्ती

एक दिन में 7 हजार मैट्रिक टन  ऑक्सीजन उत्पादन की क्षमता
देश में फिलहाल एक दिन में सात हजार मीट्रिक टन ऑक्सीजन उत्पादन की क्षमता है, जिसमें से करीब 3094 टन ऑक्सीजन कोरोना और अन्य मरीजों के लिए इस्तेमाल हो रही है। जबकि लॉकडाउन से पहले तक देश में रोजाना छह हजार मीट्रिक टन ऑक्सीजन उत्पादन की क्षमता थी जिसमें एक हजार मीट्रिक टन ऑक्सीजन का इस्तेमाल मरीजों के लिए किया जा रहा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *