80% लोगों की हैसियत से बाहर है corona virus का इलाज

चीन से आए corona virus ने भारत में कोहराम मचा के रखा हुआ है भारत में कोरोना संक्रमण के मामले 7000000 के भी पार हो चुके हैं, यही एक बड़ा कारण है जिसकी वजह से लोगों के बीच बढ़ते रोष के मद्देनजर अधिकांश राज्य सरकारों में कोरोना का इलाज पर खर्च की सीमा तय की है।

corona virus
Google photos

मगर यह इतना महंगा है कि मामूली आदमी के बस की बात नहीं है, जानकारों की मानें तो अगर 5 लोगों के परिवार का एक सदस्य भी इसकी चपेट में आ जाए तो भी 80 फीसद परिवारों की आर्थिक स्थिति बिगड़ जाएगी, आंकड़ों की मानें तो अगर किसी एक व्यक्ति को भी 10 दिन अस्पताल में बिताने पड़े तो उसके मासिक आमदनी से दुगने का खर्चा हो जाएगा.

यह भी पढ़ें : सोशल मीडिया पर धोनी की बेटी को अश्लील धमकी देने वाला युवक गिरफ्तार

NSO यानी National Statistical Office  की 2017-18 की रिपोर्ट के मुताबिक सबसे ज्यादा प्रति व्यक्ति खर्च दिल्ली में है। यहां 80 % आबादी का प्रति व्यक्ति मासिक खर्च 5,000 रुपये से कम है। यानी 5 लोगों के परिवार पर यह 25,000 रुपये के करीब बैठता है।
दिल्ली में सबसे सस्ता आइसोलेशन बेड का 10 दिन का खर्च 80,000 रुपये है। यह 80 फीसदी आबादी के मासिक खर्च से 3 गुना से भी ज्यादा है।

यह भी पढ़ें : Hathras Case : CBI जांच के लिए बनाई गई नई टीम, दर्ज किया गया मामला

भारत की जनता के लोगों के साथ साथ भारत के स्वास्थ्य विभाग की भी कमर टूटी नजर आ रही है कोरोनावायरस किसी के काबू में नहीं आ रहा है कभी आंकड़े कम दिखते हैं तो कभी आंकड़े ज्यादा होने शुरू हो जाते हैं ऐसे में सबकी नजर कोरोना वायरस के वैक्सीन पर अटकी हुई है कि कब टीका आए और लोगों को राहत की सांस मिले.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *